उत्तर प्रदेश – मृतप्रायः हो चुकी कांग्रेस पार्टी को चुस्त-दुरुस्त करने में व्यस्त महासचिव प्रियंका गांधी

दीपक कुमार त्यागी

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी एक बार फिर से अपनी खोई हुई जमीन व जनाधार को वापस हासिल करने के लिए दिन-रात एक करके अपनी संघर्षशील राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के नेतृत्व में धरातल पर जबरदस्त मेहनत कर रही है।

अभी हाल ही में हुए कांग्रेस के संगठनात्मक बदलाव में प्रियंका गांधी को दोबारा महासचिव के पद पर नियुक्त करके पुनः उत्तर प्रदेश का प्रभार दिया गया है। कांग्रेस पार्टी के महासचिव के रूप में देश की सक्रिय राजनीति में आने और उनके उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनने के बाद से वो लगातार प्रदेश में मृतप्रायः हो चुकी कांग्रेस पार्टी के संगठन को चुस्त-दुरुस्त करने में व्यस्त हैं। बेहद घातक कोरोना महामारी के समय में भी वो ऑनलाइन व विभिन्न अन्य माध्यमों से संगठन व आम जनमानस से लगातार संपर्क साध रही हैं और बढ़ते अपराध पर व जरूरतमंद लोगों की दमदार ढंग से आवाज़ उठा कर उन तक मदद पहुंचवाने का कार्य कर रही हैं। अब तो उत्तर प्रदेश कांग्रेस के संगठन पर प्रियंका गांधी की कुशल रणनीति का प्रभाव भी स्पष्ट नज़र आने लगा है, कांग्रेस संगठन आज प्रदेश में एक अलग कलेवर वाले संघर्षशील अंदाज में जनसमस्याओं को लेकर आये दिन सड़कों पर संघर्षरत नज़र आने लग गया है, अब वो जनहित के मसलों पर जेल तक जाने के लिए मानसिक रूप से तैयार रहने लगा है।

प्रियंका गांधी के कुशल नेतृत्व व कारगर रणनीति के चलते ही, आज राज्य में कांग्रेस की स्थिति यह हो गयी है कि पार्टी नये जोशोखरोश के साथ उत्तर प्रदेश के राजनीतिक मैदान में अघोषित मुख्य विपक्षी दल की भूमिका के रूप में बेहद तत्परता के साथ, किसानों, नोजवानों, बेरोजगारों, अन्य सभी वर्ग के आम लोगों की समस्याओं को उठाकर व आम जनता के बीच जाकर, एक बेहद सक्रिय राजनीतिक दल की भूमिका का पूर्ण ईमानदारी से निर्वाहन करने का प्रयास कर रही है। जिस तरह से प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में पार्टी को लगातार समय दे रही हैं, वह पार्टी के संगठनात्मक नजरिए से बेहद अच्छा है और उसको देखकर लगता है कि अब कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को भी यह समझ आ गया है कि भविष्य में कांग्रेस की केंद्र में सरकार बनाने का रास्ता उत्तर प्रदेश की धरती से ही निकलेगा। इसलिए ही इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी एक बार फिर से अपनी खोई हुई जमीन व जनाधार को वापस हासिल करने के लिए दिन-रात एक करके अपनी संघर्षशील राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के नेतृत्व में धरातल पर जबरदस्त मेहनत कर रही है।

वैसे पिछले बहुत लंबे समय से कांग्रेस हाईकमान के उपेक्षित व्यवहार के चलते उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी एक दम सुसुप्त अवस्था में चली गयी थी। जिसको खड़ा करने के लिए अब प्रियंका गांधी दिन-रात मेहनत कर रही हैं। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के विधायकों की कम संख्या बल की वजह से जो जनहित की आवाज़ दब गई थी, अब वो आवाज़ प्रियंका गांधी के दिये गए मंत्र से आये दिन सदन से लेकर सड़क तक जगह-जगह विरोध-प्रदर्शनों के रूप में गूंजती दिखाई देती है। अब प्रदेश के आम कांग्रेसी कार्यकर्ताओं व नेताओं में ऐसी ऊर्जा का संचार हुआ है कि वो बेहद मुखर होकर जन विरोध के रूप में सड़कों पर आये दिन दिखने लगा है। कांग्रेस पार्टी की सदन से लेकर सड़क तक इस बेहद मुखर होती आवाज़ से अब राज्य में सत्ता पक्ष भी अपने भविष्य की चिंता करके कहीं ना कहीं प्रियंका गांधी के फेक्टर से भयभीत है, वह कदम-कदम पर प्रियंका गांधी के फेक्टर की काट ढूंढ़ रहा है। उस वजह से ही चिंतित होकर उत्तर प्रदेश सरकार प्रियंका गांधी के प्रदेश के दौरे के दौरान, उनकी राह में आये दिन सरकारी तंत्र से अवरोध उत्पन्न करवाने का कार्य करती है। जिसकी मिसाल पूर्व में घटित सोनभद्र कांड से लेकर कुछ माह पूर्व हुए मेरठ, लखनऊ आदि के घटनाक्रमों तक में देखने को मिलती है। आज प्रियंका गांधी को रोकने के लिए प्रदेश सरकार समय-समय पर विभिन्न तरह-तरह के हथकंडे अपना रही है, लेकिन फिर भी प्रियंका गांधी आम-जनमानस की बेहद सशक्त आवाज़ बनकर और बेखौफ होकर उत्तर प्रदेश व केंद्र सरकार की बहुत सारी नीतियों को जनविरोधी बताकर उनके खिलाफ सोशल मीडिया के प्लेटफार्म से लेकर के राजनीति के अखाड़े तक में व जनता के बीच जाकर लगातार संघर्ष कर रही हैं। वो लोगों से संपर्क करके उनके दुख-दर्द में भागी बनने का प्रयास कर रही हैं। यह शैली उनके बेहद कुशल राजनेता होने के गुण को प्रदर्शित करती है।

प्रियंका गांधी की इस संघर्षशील कार्यशैली को देखकर, बहुत सारे देशवासियों व कांग्रेस कार्यकर्ताओं को प्रियंका गांधी में देश की लोकप्रिय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी का अक्स नज़र आता है। लोग उनके दृढ़ संकल्प, इच्छाशक्ति, अपनी बात को बेबाक होकर सरल मृदुभाषी हिन्दी में रखने वाली शैली व आम जनता के बीच रहने वाली शैली को देखकर मानते हैं कि वो आने वाले समय में देश की बेहद लोकप्रिय जननेता के रूप में खुद को बहुत ही जल्द स्थापित कर सकती हैं। हालांकि लोगों का मानना है कि इसके लिए उनको कांग्रेस की गांधी, नेहरू, पटेल, शास्त्री, इंदिरा व राजीव गांधी वाली विचारधारा पर दृढ़ संकल्प के साथ कायम रहना होगा, कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं पर हावी होती अन्य विचारधारा को अपने ऊपर व अपने आसपास के माहौल में हावी होने से रोकना होगा और उस विचारधारा के लोगों को अपने सिस्टम में एडजस्ट होने देने से बचना होगा। आज कांग्रेस के आम कार्यकर्ताओं के साथ-साथ देश के बहुत सारे लोगों को उनसे बहुत ज्यादा उम्मीदें है, इसलिए उनके सामने भी आम जनमानस की उम्मीदों पर खरा उतरने की बहुत बड़ी चुनौती खड़ी है।

आज देश के राजनीतिक हालात देखकर अधिकांश लोगों का मानना है कि हमारे देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए बेहद जरूरी है कि देश में मजबूत सरकार के साथ मजबूत विपक्ष भी हमेशा बरकरार रहे। इसके साथ ही यह भी बेहद जरूरी है कि विपक्ष का नेतृत्व भी एक ऐसे सशक्त समझदार शख्स के हाथ में हो, जो उसे सही दिशा देकर आम जनता की आवाज़ को सरकार के सामने बुलंद ढंग से उठा सके। आज कहीं ना कहीं उत्तर प्रदेश व देश के लोगों को वह मजबूत चेहरा प्रियंका गांधी में दिखाई दे रहा है। लॉकडाऊन से पहले कांग्रेस पार्टी ने जिस तरह से सोनिया गांधी के नेतृत्व में पार्टी की स्टार प्रचारक जोड़ी राहुल-प्रियंका के बलबूते देश में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) व अन्य मसलों को लेकर मजबूती से भाजपा सरकार को घेरने का कार्य किया था, वह जनता के बहुत बड़े वर्ग की नज़रों में बेहद काबिले-तारीफ था। उस दौरान प्रियंका गांधी ने दिल्ली के इंडिया गेट से लेकर लखनऊ की सड़कों पर बेहद मुखरता के साथ सरकार का विरोध किया था, जिसने जनता के बीच उनकी एक संघर्षशील राजनेता की छवि बनाने का कार्य किया था। उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी के नेतृत्व में पार्टी के खोये हुए जनाधार को वापस हासिल करने के प्रयास के रूप में एक अच्छा मौका कांग्रेस को मिला है, जनता की इच्छा रही तो यह प्रयास प्रदेश में कांग्रेस को बैसाखियों से मुक्त करके अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए सुनहरा अवसर बन सकता है और प्रदेश में शीर्ष नेतृत्व के द्वारा धरातल पर बहुत लंबे समय के बाद किया गया कोई ठोस कारगर राजनीतिक रामबाण उपाय भी साबित हो सकता है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *