‘क’से कृष्ण ‘क’से कोरोनावायरस के लिए कृष्ण जिम्मेदार , सूर्यकांत धस्माना कांग्रेस नेता

सूर्यकांत धस्माना, कोरोना, श्रीकृष्ण

आर.बी.एल.निगम, वरिष्ठ पत्रकार
उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने कहा है कि कोरोना वायरस भगवान श्रीकृष्ण की देन है। मोदी-योगी-अमित के विरुद्ध करने में राहुल गाँधी को पीछे छोड़ने में कांग्रेस नेता भी कम नहीं। कहते अपने-आपको हिन्दू हैं, लेकिन इतना भी ज्ञान नहीं कि नारद पुराण में विदेश से आयी इस महामारी का उल्लेख है। दूसरे, जब किसी चैनल पर धर्माचार्यों की चर्चा सुनने पर ज्ञात होता है कि हिन्दुओं के ग्रंथों में इस महामारी का वर्णन होने के साथ-साथ भारत से ही इसके उपचार निकलने का जिक्र है। लेकिन अल्पज्ञानी कांग्रेसी हिन्दू होते हुए अपने ही हिन्दू धर्म को बदनाम कर रहे हैं।
धस्माना ने कहा कि ‘क’ से कृष्ण और ‘क’ से कोरोना वायरस होता है, इसीलिए कोरोना वायरस भगवान श्रीकृष्ण के कारण ही आया है। मीडिया के साथ बातचीत में उन्होंने ये बेतुका बयान दिया।

लेकिन धस्माना की इतनी अल्पबुद्धि और अल्पज्ञान है, हंसी आती है। इस बेवकूफ को इतना भी मालूम कि ‘क’ से कंस भी होता है और ‘कंस को श्रीकृष्ण ने मारा था।’ श्रीकृष्ण ने गीता भगवत में यह भी कहा है कि “जब-जब धर्म की हानि होगी, मैं धरती पर आऊंगा।”
वो चार धाम यात्रा शुरू होने के सम्बन्ध में पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि चूँकि कोरोना वायरस संक्रमण तेज़ी से बढ़ रहा है, इसीलिए इस यात्रा को शुरू करने का कोई तुक नहीं है। उन्होंने दावा किया कि चार धाम यात्रा शुरू होने से उत्तराखंड में श्रद्धालुओं की तादाद बढ़ जाएगी और उनके भारी संख्या में यहाँ आने से कोरोना वायरस संक्रमण की आपदा और ज्यादा बढ़ जाएगी।
‘दैनिक जागरण’ की ख़बर के अनुसार, उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने कोरोना दिया है। अपने बयान के बचाव के लिए उन्होंने भगवद्गीता को उद्धृत किया। बकौल सूर्यकांत धस्माना, गीता में श्रीकृष्ण ने कहा है कि वे ही सृष्टि के निर्माता, पालनकर्ता और संहारकर्ता हैं। साथ ही वो प्रदेश सरकार पर भी बरसे। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की भाजपा सरकार कोरोना वायरस संक्रमण आपदा से निपटने में पूरी तरह से विफल रही है।

उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार रुपए लेकर कोरोना टेस्टिंग की अनुमति दे रही है। वहीं उत्तराखंड में नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने हल्द्वानी में अंतर्राज्यीय बस अड्डे को लेकर सरकार की नीयत पर सवाल खड़ा किया। उन्होंने याद दिलाया कि वर्चुअल रैली में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हल्द्वानी में अंतर्राज्यीय बस अड्डे और रिंग रोड का निर्माण अतिशीघ्र करने का आश्वासन दिया था लेकिन अब तक इस पर काम शुरू नहीं हुआ है।
इससे पहले पाकिस्तान के एक मौलवी ने कबूतर के शरीर के एक विशेष स्थान को पका कर खाने को कोरोना वायरस से संक्रमण का इलाज बताया था। उसके बाद एक दूसरे मौलवी ने अल्लाह से दुआ की थी कि कोरोना वायरस ‘को काफिर मुल्कों’ की तरफ भेज दिया जाए। उक्त मौलवी ने कहा कि था अल्लाह ने अगर मदद नहीं की तो कोरोना सब कुछ ख़त्म कर देगा। अब कॉन्ग्रेस नेता भी इसी तरह के बयान देकर सुर्खियाँ बटोर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *