बढ़ती जनसंख्या को द्रष्टिगत रखते हुये आधुनिक खेती की आवश्यकता है -एम०के०एस०सुंदरम

प्रमुख समाचार/संपादकीय

देश में बढती जनसंख्या को दृष्टिगत रखते हुए जनपद में अधिक उत्पादन हेतु आधुनिक खेती की आवश्यकता है , देश की राजधानी के निकट होने के कारण जनपदवासियों का और भी दायित्व बढ जाता है । हमारे देश में ही नही विदेशो में आर्गेनिक खेती से उत्पादित फल एवं सब्जियों अन्य खाघ पदार्थ लोगों को अधिक पसन्द है।श्रीएम0के0एस0 सुन्दरम,जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर जनपद की तहसील-दादरी के सभागार में आयोजित ’जनपद स्तरीय खरीफ गोष्ठी एवं कृषि मेले ’ का श्शुभारम्भ करते हुए कहा कि किसानों की कृषि से सम्बन्धित सभी समस्याओं को प्राथमिकता पर निस्तारण किया जायेगा,जिससे किसान अपने खेत में आधुनिक खेती अपना कर अधिक से खाघान्न उत्पादन कर सके । जनपद के सभी किसानों के क्रेडिट कार्ड बनाये जायेगें, जिससे कमजोर कृषक भी बैक से कृषि ऋण प्राप्त कर कृषि उपकरण ,खाद, उन्नतिशील बीज व कृषि रक्षक दवाई क्रय कर सके । उन्होने कहा कि धान पर रू0 700/- का, दलहनी फसलो पर रू0 1200/- का तथा कृषि यंत्रो पर 50 प्रतिशत का अनुदान दिया जा रहा है। मृदा परीक्षण हेतु विलासपुर मिटटी परीक्षण प्रयोगशाला में किसानों द्धारा मिटटी ले जाने पर नि‘शुल्क मिटटी परीक्षण की सुविधा है । मिटटी में उर्वरा श्शक्ति बढाने हेतु किसानों को वर्मी कम्पोस्ट खाद, जैविक खाद एवं हरी तथा कम्पोस्ट खाद का प्रयोग कर अधिक उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है । जिलाधिकारी श्री सुन्दरम ने खरीफ गोष्ठि में किसानों की समस्याओ को सुनने के बाद कहा कि गैहू क्रय केन्द्रो पर बोरो की कमी को पूरा करने, विधुत आपूर्ति श्शासन के निर्देशो के अनुसार सुनिश्चित करने, जनपद मैं ढैचा का बीज हरी खाद के उददेश्य से श्शीघ्र किसानों को उपलब्ध कराया जायेगा और नील गाय के आतक से किसानों की फसल को बचाने हेतु श्शीघ्र उपाय किये जायेगें ।उन्होने उप निदेशक कृषि प्रसार को निर्देशित किया कि जनपद में आर्गेनिक खेती को बढावा देने हेतु किसानों को प्रोत्साहित व प्रेरित किया जाये । उप निदेशक कृषि प्रसार श्री एस0सी0शर्मा ने कहा कि जनपद के सभी राजकीय गोदामों पर खरीफ की फसल में अधिक उत्पादन हेतु धान पूसा बासमती -1, धान बल्लभ-22, धान सुगन्ध-05, व 04, धान मालवीय-4 एवं दलहनी फसली अरहर-उपसा एव उडद -पी यू -31 पर्याप्ता मात्रा में उपलब्ध है तथा कृषि यंत्र बैटरी स्प्रेयर, नैव सैप स्प्रेयर 50 प्रतिशत के अनुदान पर उपलब्ध हे । उन्होने कहा कि धान में पूसा सुगन्ध-6 एवं पूसा-1509 नई किस्म जारी हुई है, किसान अधिक उत्पादन हेतु उत्ततिशील प्रजातियों का प्रयोग करें। मुख्य पशु चिकित्साधिकारीडा0 एस0के0मलिक ने कहा कि जनपद में खुरपका,मुह पका एवं गलघोटू के टीके माह जुलाई,12 के प्रथम सप्ताह में लगाये जायेगे । इससे पूर्व कृषि विज्ञान केन्द्र के प्रभारी डा0 आर0के0सिह ने मृदा परीक्षण कर सन्तुलित खाद का प्रयोग कर अधिक उत्पादनकरने, डा0 विनीता सिंह गृह विज्ञान पर,डा0- आनन्द ने आधुनिक खेती हेत ,उन्नतिशील बीजो एवं सन्तुलित खादो के प्रयोग पर विस्तार से प्रकाश डाला । इस अवसर पर जनपद के दूर-दराज अंचल के किसानों एवं विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया ।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *