दवाओं के बिना जीना सीखें

प्रमुख समाचार/संपादकीय

रफ्तार भरी जिंदगी में बेसब्री का यह आलम है कि दर्द मिनटों में छूमंतर होना जरूरी है। जरा सी तकलीफ हुई नहीं कि बिना डॉक्टर से पूछे गोली गटक लेते हैं। कुछ तुरंत फिजिशियन  के पास भागते हैं। हालांकि दवाओं के महत्व से इंकार नहीं किया जा सकता, लेकिन बहुत सी तकलीफों में दवाओं का सहारा लिए बगैर भी इलाज कर सकते हैं। यहां सखी कुछ ऐसे उपाय सुझा रही है, जिन्हें अपनाकर आप कई तरह के दर्द से छुटकारा पा सकती हैं।

स्पर्श दें

ध्यान दें, जब कभी काम करते समय आपकी उंगलियां जल जाती हैं तो आप सबसे पहले क्या करती हैं? उंगली को मुंह में रख लेती हैं न? आप बिलकुल सही करती हैं। कलाई में चोट लगने पर आप इसे दूसरे हाथ से मजबूती से पकड लें। स्पर्श में बहुत ताकत होती है, भले वह आपका अपना ही स्पर्श क्यों न हो। सिर दर्द होने पर अपनी उंगलियां माथे पर हलके-हलके फेरने से काफी हद तक आराम महसूस होगा। इस तरह आपके मस्तिष्क तक यह संदेश पहुंचता है कि आप अपना खयाल  रखती हैं

बर्फ की सेंकाई

दर्द वाले स्थान पर बर्फ से सेंकाई करके काफी राहत मिल सकती है। एक तौलिये में बर्फ का टुकडा लपेट लें या किसी प्लास्टिक बैग में बर्फ का पानी भरकर उससे सेंकें। अगर यह न हो सके तो कोल्डड्रिंक  की चिल्ड बोतल से भी सेंक सकती हैं।

अच्छी बातें सोचें

जब आप अकेली हों तो बीते हुए अच्छे पलों को याद करें। पिछली छुट्टियों के मस्ती भरे लम्हों  को याद करें। अगली किसी योजना के बारे में सोचें। किसी खास दोस्त, पति या बच्चों के साथ हुए किसी अनुभव के बारे में सोचें। यह भी दर्द में राहत देगा।

एक्सरसाइज़ करें

दवाओं को नहीं, एक्सरसाइज  को अपने जीवन का हिस्सा बनाएं। ज्यादा  आराम करने से भी शरीर के टिश्यूज  को नुकसान पहुंचता है। दर्द की शुरु आत में आराम करने से टिश्यूज  की एक तरह से मरम्मत होती है। इसलिए आराम के बाद एक्सरसाइज एक पंप की तरह काम करती है, जिससे शरीर में रक्त संचार बढता है। डॉक्टर की सलाह पर कुछ एक्सरसाइज जरूर करें।

दर्द से ध्यान हटाएं

अगर दर्द हल्का-फुलका है तो टी.वी. देखकर या ऑनलाइन  गेम खेल कर आप अपना ध्यान बंटा सकती हैं। किसी करीबी से फोन पर बात कर सकती हैं। मनपसंद संगीत सुनने से भी आपका ध्यान दर्द से दूर चला जाएगा।

खास तरह से सांस लें

दर्द के दौरान खुद पर काबू पाने की कोशिश करें। आप कुर्सी पर हों या बेड पर, कुछ हलकी और गहरी सांसें लें। मुंह से सांस भीतर खींचें और धीरे-धीरे नाक के जरिये बाहर छोडें। यह क्रिया बार-बार करें। इससे आपको तनाव कम होता महसूस होगा। तनाव और थकान दर्द को बढाते हैं और खास तरह से सांस लेने से यह कम होते हैं।

खास तरीके

-हलके हाथों से की जाने वाली मालिश से खून  का दौरान बढता है और मांसपेशियों की अकडन, गर्दन का दर्द, सिर दर्द और इस तरह की दूसरी तकलीफें दूर होती हैं।

-तनाव, थकान और सिरदर्द से होने वाली तकलीफों से ध्यान के जरिये छुटकारा पाया जा सकता है। ध्यान लगाने के लिए किसी एक खास  विषय  पर सोच केंद्रित की जाती है। जैसे कि सांस लेना।

-योग एक ऐसी प्रक्रिया है, जिससे शरीर के सभी अंगों को कंट्रोल करने में मदद मिलती है। शारीरिक मजबूती, लचीलापन और मानसिक तंदुरूस्ती  के लिए योग एक कारगर उपाय है। मांसपेशियों की जकडन  में ज्यादा असरदार गर्म सेंकाई होती है। इसलिए मांसपेशियों को आराम देने के लिए गर्म पानी की सेंकाई कर सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *