भारत की बहुउद्देशीय नदी घाटी योजनाएं

  • 2014-05-26 03:14:01.0
  • उगता भारत ब्यूरो

बहुउद्देशीय योजनाएं वे हैं जिनसे अनेक उद्देश्यों की पूर्ति होती है, जैसे-
1. बाढ़ों की रोकथाम ।
2. सिंचाई के लिए जल की प्राप्ति।
3. कल कारखानों के लिए विद्युत का उपलब्ध होना।
4. पीने का पानी उपलब्ध होना।
5. यातायात के साधनों में वृद्घि।
6. मत्स्य उद्योग का विकास।
7. मिट्टी के कटाव की रोकथाम।
8. वनों में वृद्घि।
9. पर्यटक आकर्षक केन्द्रों का निर्माण।
भारत की बहुउद्देशीय नदी घाटी परियोजनाएं निम्नलिखित हैं-
व्यास परियोजना (पंजाब, हरियाणा व राजस्थान) यह पंजाब, हरियाणा तथा राजस्थान सरकारों की संयुक्त योजना है जो व्यास नदी पर है। इसमें व्यास सतलुज लिंक पर पण्डोह नामक स्थान पर बिजलीघरों की स्थापना की गयी है। तथा पोंग (मुकरियन जालंधर के निकट) में व्यास बांध का निर्माण। व्यास पारेषण व्यवस्था शामिल हैं। यह बांध पंजाब व राजस्थान की चार लाख हेक्टेयर भूमि की सिंचाई करता है और इन बिजलीघरों से क्रमश: 660 मेगावाट तथा 240 मेगावाट बिजल उत्पन्न होती है।