प्राध्यापक राम सिंह अग्रवाल की 118 वीं जयंती (28 अगस्त 2013)

  • 2013-08-28 00:21:10.0
  • उगता भारत ब्यूरो

-आपका जन्म हरियाणा में हुआ था।
-आप वैश्य जाति में जन्मे थे किंतु आप शेर की भांति दहाड़ कर बोलते थे।
-आपको गुण-कर्म-स्वभाव के आधार पर दिल्ली केसरी अथवा शेर-ए-दिल्ली कहा जाता था।
-आप शाकाहारी थे और गऊ का दूध पीते थे
-आप अखिल भारत हिंदू महासभा के चार बार राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने गये।
-आप दिल्ली नगर निगम और दिल्ली प्रदेश विधानसभा में हिंदू महासभा संसदीय दल के नेता रहे।
-आपने कई आंदोलनों में सक्रिय होकर भाग लिया।
-आप एक बार बुलंदशहर भी आए थे और आर्य समाज के भवन में हुए हिंदू सम्मेलन में प्रभावशाली भाषण दिया था।
-आपको वीर सावरकर-भाई परमानंद की सोच चिंतन-विचारधारा पसंद थी।
-आपने 1945-46 के चुनावों में हिंदू महासभा का खुलकर समर्थन किया था।
-आप वैदिक धर्मी और स्वामी दयानंद के भक्त थे।
-एक बार आपका निर्वाचन किसीकारण से रद्द हो गया था जब दुबारा चुनाव हुआ तो पहले से अधिक वोटों से आप जीते जो इस बात का प्रमाण है कि आपका जनता में अच्छा प्रभाव था और आप लोकप्रिय नेता थे।
-1951 में जब डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने हिंदू महासभा को छोड़कर भारतीय जनसंघ की स्थाना की थी तब भी आपने डा. मुखर्जी का साथ नही दिया और मृत्यु पर्यंत हिंदू महासभा में ही रहे।
-आपके प्रति सच्ची श्रद्घांजलि यही होगी कि उनके दल का समर्थन किया जाए क्योंकि अन्य दल हिंदुओं के हितों की उपेक्षा तथा अवहेलना ही करते हैं फिर भी हिंदू समाज उनसे ही चिपका हुआ है। ईश्वर हिंदू समाज को सद्बुद्घि दे।
-इंद्रदेव गुलाटी