अमानवीय तालिबानी गतिविधियों के विरुद्ध फ़तवों की दरकार

  • 2012-11-03 16:25:05.0
  • उगता भारत ब्यूरो

तनवीर जाफऱी
जिस इस्लाम धर्म को साढ़े चौदह सौ वर्ष पूर्व हजऱत मोहम्मद के नाती हजऱत इमाम हुसैन ने अपनी व अपने परिजनों की जान की कुर्बानी देकर यज़ीद जैसे तत्कालीन दुष्ट एवं क्रूर सीरियाई शासक के चंगुल में जाने से बचाया था दुर्भाग्यवश आज वही इस्लाम धर्म क्रूर तालिबानी मुसलमानों की गिरफ़्त में जाता दिखाई दे रहा है। पश्चिमी ताक़तों से अपने विरोध का बहाना बनाकर यह तालिबानी राक्षसी प्रवृति की शक्तियां केवल अमेरिका या नाटो सेनाओं पर ही हमले नहीं करतीं बल्कि इनके निशाने पर तो इस्लामी हित साधने वाले तमाम लक्ष्य भी दिखाई देते हैं। कुल मिलाकर अब तो यह समझ पाने में ही दिक्कत होने लगी है कि आखिर तालिबानों का दुश्मन है कौन? यदि हम इनकी इन सब गतिविधियों व इनके द्वारा आक्रमण किए जाने वाले लक्ष्यों पर नजऱ डालें तो हमें यही नजऱ आता है कि इस प्रकार की हिंसक कार्रवाईयों को अंजाम देना पूरी तरह गैर इस्लामी व ग़ैर इंसानी भी है। साथ ही साथ इनके द्वारा की जाने वाली हिंसक कार्रवाईयां इस्लाम के इतिहास में पहले कहीं भी और कभी भी देखी नहीं गईं। यदि थोड़ी देर के लिए हम यह मान लें कि इनकी सांठगांठ चरमपंथी संगठन अलकायदा के साथ है तथा दोनों का संयुक्त लक्ष्य अमेरिका व अमेरिकी हितों को नुकसान पहुंचाना है फिर सवाल यह उठता है कि तालिबानी विचारधारा व तालिबानी कानून की आड़ में किसी नकाबपोश औरत को भरे मजमे के सामने बदचलनी के इल्ज़ाम में सार्वजनिक रूप से गोली मारकर उसकी निर्दयता से हत्या किए जाने का आखिर क्या औचित्य है? क्या इस्लाम इस बात की इजाज़त देता है कि एक असहाय व निहत्थी अकेली औरत के इस प्रकार हाथ-पैर बांधकर उसे हज़ारों लोगों के सामने गोली मार दी जाए? अब तक तालिबानी ताकतें अफगानिस्तान व वज़ीरिस्तान क्षेत्र में सैकड़ों स्कूलों व शिक्षण संसथान के नामोनिशान मिटा चुके हैं। इन हथियारबंद वहशी दरिंदों की यह सोच है कि स्कूली शिक्षा गैर इस्लामी है। और अपनी इसी नापाक अवधारणा के चलते यह तालिबानी तमाम स्कूलों व मदरसों की इमारतों को ध्वस्त कर चुके हैं। इतना ही नहीं बल्कि पिछले दिनों इन्हीं हैवानों ने मलाला युसुफ ज़ई नामक उस 14 वर्षीय कन्या पर गोली चला कर उसे गंभीर रूप से घायल कर दिया जोकि अफगानिस्तान के बच्चों को शिक्षा ग्रहण करने के प्रति आकर्षित करने का काम कर रही थी। परंतु इन हथियारबंद अशिक्षित शैतानी ता$कतों को उस मासूम बच्ची द्वारा इस्लाम के रास्ते पर चलते हुए शिक्षा का प्रचार-प्रसार करना पसंद नहीं आया और उन्होंने उस बच्ची को गोली मारकर घायल कर दिया। जऱा सोचिए कि मलाला द्वारा अनपढ़ बच्चों को पढ़ाई की ओर आकर्षित करने में पश्चिमी देशों के कौन से हित साधे जा रहे थे जिसके चलते मलाला को को इन हैवानों की दहशत का शिकार होना पड़ा। क्या इतनी छोटी उम्र की लडक़ी पर स्वयं को मुसलमान व इस्लाम के रक्षक बताने वाले लोगों द्वारा जानलेवा हमला किया जाना कोई इस्लामी कृत्य है? अफग़ानिस्तान व पाकिस्तान में सक्रिय तालिबान नामी शैतानी ताकतें आखिरकार किसकी दुश्मन हैं यह भी समझ पाना आसान नहीं है। कहीं अमेरिका का विरोध तो कहीं सभी पश्चिमी देशों से बैर का बहाना। कहीं मुस्लिम समाज को शिक्षित किए जाने के प्रयासों का विरोध तो कहीं गीत-संगीत, फिल्म व टेलीविजऩ से मुखा़लेफत। कभी महिलाओं के अकेले घर से बाहर निकलने पर आपत्ति तो कभी महिलाओं की बेपर्दगी को लेकर टूटता इनका क़हर। और तो और स्वयं को इस्लाम का मुहाफिज़ बताने वाले यह वहशी दरिंदे दरगाहों,मस्जिदों व इमामबाड़ों में चलने वाली इस्लामी गतिविधियों को भी चलते हुए नहीं देख पाते। अब तक इनके द्वारा सैकड़ों दरगाहों, मस्जिदों, इमामबारगाहों, पीर-फकीरों के आस्तानों, मज़ारों व मुसलमानों के तमाम धार्मिक जुलूसों पर जानलेवा हमले किए जा चुके हैं। यहाँ तक कि यह आसुरी ताकतें हजऱत इमाम हुसैन का गम मनाने वाले शिया समुदाय के जुलूसों व मजलिसों पर भी कई बड़े व आत्मघाती हमले कर चुके हैं। इनके द्वारा सिखों,हिंदुओं व अहमदिया मुसलमानों व शिया समुदाय के लोगों पर हमले करना तथा दहशत फैलाना तो इनके लिए आम बात है। लिहाज़ा जब इनके निशाने पर अमेरिका से लेकर महिलाओं तक व मस्जिद में नमाज़ पढऩे वाले नमाज़ी तक हैं फिर आखिर इनका वास्तविक दुश्मन कौन है और यह स्वयं किसके साथी हैं और किसके साथ हैं यह समझ पाना बहुत मुश्किल है। पिछले दिनों पूरी दुनिया के साथ-साथ अफगानिस्तान में भी बकरीद का त्यौहार मनाया गया। तालिबान ने यहां उत्तरी अफगानिस्तान के फरायाब प्रांत के मैमाना शहर में 4 दिवसीय ईद-उल-जुहा उत्सव के पहले दिन अपनी क्रूरता का वह तांडव दिखाया जिसने एक बार फिर इनके मुसलमान ही नहीं बल्कि इंसान होने पर भी संदेह खड़ा कर दिया। मैमाना शहर में स्थित एक प्राचीन जामा मस्जिद में बकऱीद के पहले दिन प्रांत के गवर्नर व प्रांतीय सरकार के कई मंत्री शुक्रवार के दिन नमाज़ में हिस्सा ले रहे थे। बकरीद का पहला दिन होने के साथ-साथ शुक्रवार भी होने के चलते मस्जिद खचाखच भरी थी। इसी बीच 14 से 19 वर्ष की आयु वर्ग के एक आत्मघाती मानव बम ने इस मस्जिद में स्वयं को उड़ा लिया। परिणामस्वरूप 45 नमाज़ी मौके पर ही मारे गए। इनमें पांच बच्चे भी शामिल हैं। जबकि पुलिस सेना व खुफिया एजेंसी के 19 लोग भी इस आत्मघाती हमले का शिकार हुए। कम से कम 75 लोगों के घायल होने का भी समाचार है। साभार

उगता भारत ब्यूरो ( 2474 )

उगता भारत Contributors help bring you the latest news around you.