गिरिराज धरण में तेरी शरण

  • 2016-11-01 05:00:19.0
  • वेदवसु आर्य

गिरिराज धरण में तेरी शरण

बदायूं : त्योहारों की श्रंखला में श्री गोवर्धन महाराज की पूजा करते हुए आज महिलाओं ने अपने पुत्र की लंबी उम्र की कामना भगवान श्री कृष्ण से की। जगह जगह गौधन से गोवर्धन बना कर पूजा की गई और भजन कीर्तन करते हुए प्रात कालीन में ही पकवान आदि अर्पित किए गए। इस मौके पर कई जगह विशेष अनुष्ठान का भी आयोजन कर वृहद कार्यक्रम किए गए। शहर से लेकर कस्बों और गांवों तक गोवर्धन पूजा की गई। अन्नकूट का भोग लगाया गया और प्रसाद वितरण किया गया। भगवान कृष्ण की लीलाओं की कथा भी सुनाई गई। गोवर्धन की आकृति बनाने के लिए लोग गोबर के लिए भटकते दिखाई दिए। इस त्योहार पर अधिक से अधिक लोगों से गौ पालन का भी आह्वान किया गया। शहबाजपुर स्थित विश्वहरि मंदिर में सामूहिक रूप से गोवर्धन पूजा की गई।


दीपोत्सव के अगले ही दिन श्री गोवधर्न पूजा का अहम स्थान ¨हदू समाज में माना गया है। गौधन यानि कि गाय के गोबर से गोवर्धन को स्थापित किया जाता है। और घर में बने पकवान आदि समर्पित किए जाते हैं। इसी क्रम में महिलाओं ने उपवास रख और पकवान बनाए। माना जाता है कि श्री कृष्ण की उपासना करते हुए महिलाएं यह व्रत अपने पुत्र की लंबी उम्र और परिवार की तरक्की व सभी की दीर्घायु व संकट मोचन हरने के लिए करती हैं। इसी क्रम में घर घर श्री कृष्ण पूजे गए और गोवधर्न की अराधना की गई। घरों में बने पकवानों की सुगंध से आबोहवा भी महकती रही। गायत्री परिवार की ओर से प्रज्ञा मंडल द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में गोवर्धन पूजा महोत्सव हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। मातृशक्तियों ने गाय के गोबर के गोवर्धन नाथ की अल्पना बनाकर उनका पूजन किया और अन्नकूट का भोग लगाया। भगवान श्रीकृष्ण की लीलाओं को सुनाया। मातृशक्तियों ने गायों के गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाकर पानी, मिष्ठान, खीर, रोली, चावल और दीपक जलाकर पूजा की, साथ ही परिक्रमा भी की। गायों को स्नान कराकर फूलमाला पहनाई, चंदन लगाया और मिठाई खिलाकर गायों की आरती और प्रदक्षिणा की। ग्राम दबिहारी, अलापुर, रसूलपुर, चमारी आदि गांवों में सुखपाल शर्मा, रघुनाथ ¨सह, भवेश शर्मा, श्यामनिवास, पंकज कुमार, पवन शर्मा, रामकिशन नारद, रामवीर सिंह, सत्यपाल शर्मा ने वेदमंत्रोच्चारण किया।

गायों के पालने के प्रति लोगों को हो रही अरूचि और हो रही गोवशी का परिणाम अब सामने आ रहा है। नगरीय क्षेत्र में गोवर्धन के लिए गाय का गोबर ही नहीं मिला। हाल ये था कि बहुत से लोग डेयरी या फिर गावों से गाय का गोबर लेकर आए। इस बात की काफी चर्चा रही।

गोवर्धन पूजन का त्योहार नगर क्षेत्र में गोवर्धन-पूजा के साथ देवस्थानों पर अन्नकूट का प्रसाद बितरण कर मनाया गया।

वेदवसु आर्य ( 18 )

Bureo Chief Sambhal, Babrala.