एक हो जावें-पर्व होली का मनावें

  • 2016-03-20 09:30:01.0
  • विमलेश बंसल ‘आर्या’

एक हो जावें, पर्व होली का मनावें, कुहुक रही हैं कोयल डालियाँ।
फ़ाग गवावें, कृपा ईश्वर की पावें, झूम रही हैं जौ की बालियाँ।।
एक हो जावें, पर्व होली का मनावें........

मासों में अंतिम मास फाल्गुन विदाई का।
देने संदेशा आया, प्रेम और भलाई का।
जगें जगावें, भेद हर दिल के मिटावें, पावन बनावें हृदय प्यालियाँ।।
एक हो जावें, पर्व होली का मनावें........

टेसू पलाश चन्दन, प्रेम रस में तृप्त होकर।
कह रहे हैं सीख मानव, फेंक न तू कीच गोबर।
खिलें खिलावें, महक सबको महकावें, दें न किसी को गन्दी गालियाँ।।
एक हो जावें, पर्व होली का मनावें........

होवें सुखी और स्वस्थ, महके सभी का घर ।
बेहिचक बे-रोक टोक, भावना बने सुपर।
मिलें मिलावें, खावें नव अन्न खिलावें, भर भरकर बांटें गूँजा थालियाँ।।
एक हो जावें, पर्व होली का मनावें........

कोई न पोशाक नव, हमको यहां पहननी होती।
शुद्ध हो संकल्प प्यारा, साफ हो बस तन पर धोती।
यज्ञ रचें रचावें, विमल अमृत को पावें, आनंद मनावें दे दे तालियाँ।।
एक हो जावें, पर्व होली का मनावें........

फ़ाग गवावें, कृपा ईश्वर की पावें, झूम रही हैं जौ की बालियाँ।।
-विमलेश आर्या

होली

Tags:    होली