अमित शाह के सामने पार्टी में शामिल हुए स्वामी प्रसाद मौर्य

  • 2016-08-08 10:00:49.0
  • वरूण आर्य

अमित शाह के सामने पार्टी में शामिल हुए स्वामी प्रसाद मौर्य

नयी दिल्ली: कभी बहुजन समाज पार्टी के कद्दावर नेता रहे स्वामी प्रसाद मौर्य आज भारतीय जनता पार्टी के हो गये. उन्होंने आज भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के सामने पार्टी की सदस्यता ली. इस अवसर पर उत्तर प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने उनका स्वागत किया. पिछले दिनों स्वामी प्रसाद मौर्य ने बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए पार्टी छोड़ दी थी, तभी से उनके भाजपा में जाने के कयास लगाये जा रहे थे.

कुछ दिनों पहले स्वामी प्रसाद मौर्य ने बसपा यह कहते हुए छोड़ दी थी कि मायावती दलितों के नाम पर राजनीति तो करती हैं, लेकिन उन्हें दलितों की कोई चिंता नहीं है. उन्होंने मायावती पर टिकट की बिक्री का भी आरोप लगाया था. हालांकि उनके पार्टी छोड़कर जाने के बाद मायावती ने यह कहा था कि अच्छा हुआ वे खुद ही चले गये. मैं उन्हें पार्टी से निकालने वाली थी, उनके खिलाफ कई शिकायतें आ रहीं थीं. मायावती ने कहा था कि वे सदन में विपक्ष के नेता के रूप में सही ढंग से मुद्दे नहीं उठा रहे थे. स्वामी भाजपा के साथ आयेंगे इसके संकेत तभी मिल गये थे जब उन्होंने दो अगस्त को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात की थी. हालांकि, बसपा छोड़ने से दो-तीन महीने पहले से भी वे लगातार भाजपा व संघ के नेताओं के संपर्क में थे.


स्वामी प्रसाद मौर्य उत्तर प्रदेश के मजबूत नेता हैं, उनका अपना एक वोट बैंक है. स्वामी पडरौना विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं, वे चार बार विधायक रह चुके हैं.

कौन हैं स्वामी प्रसाद माैर्य?

स्वामी प्रसाद मौर्य उत्तरप्रदेश में पिछड़ी जाति वर्ग में यादव व कुर्मी जाति के बाद सबसे मजबूत जातीय समूह का प्रतिनिधित्व करते हैं. उनकी यह खासियत ही हर दल को लुभा रही थी. 62 साल के मौर्य खुद बौद्ध धर्म मानते हैं और हिंदू धर्म की जाति प्रथा व वर्गभेद के आलोचक रहे हैं. कुशवाहा जाति को उत्तरप्रदेश में मौर्य, कच्छी, सैनी, शाक्य जैसे दूसरे नामों से जानते हैं, जो पूर्वी उत्तर प्रदेश की अधिकतर सीटों पर मजबूत वोट बैंक की हैसियत रखते हैं. मौर्य 2012 में हुए यूपी चुनाव के बाद बसपा के विपक्ष में आने के बाद विपक्ष के नेता बनाये गये थे. इससे मायावती के उन पर भरोसे का अनुमान लगाया जा सकता है. प्रतापगढ़ के रहने वाले स्वामी पेशे से वकील हैं और 1980 में लोकदल की युवा शाखा के सदस्य के रूप में उन्होंने अपने राजनीतिक कैरियर की शुरुआत की. 1991 में वे जनता दल में गये और जब उन्होंने पार्टी छोड़ी तो वे पार्टी के प्रदेश महासचिव थे. 1998 में वे बसपा की उत्तरप्रदेश इकाई के अध्यक्ष बनाये गये. वे प्रदेश में सक्रिय इकलौते नेता थे, जिन्हें मायावती ने मीडिया से बात करने के लिए अधिकृत किया था.