लोकतंत्र में मीडिया का प्रमुख योगदान:पाठक

  • 2018-01-20 07:02:55.0
  • अजय आर्य

लोकतंत्र में मीडिया का प्रमुख योगदान:पाठक

अजय आर्य, बी.के.तिवारी
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के विधि मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा है कि लोकतंत्र में मीडिया का प्रमुख स्थान होता है। उन्होंने 'उगता भारत' के न्यूज चैनल का शुभारंभ करते हुए यहां कहा कि मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ इसलिए कहा जाता है कि वह दिशाहीन राजनीति, न्याय प्रणाली और कार्यपालिका को मार्ग दिखाने का काम करती है। इसलिए हर लोकतांत्रिक देश में भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को प्रमुखता दी जाती है, और इसे हर लोकतांत्रिक देश की सरकार अपने नागरिकों को उनका मौलिक अधिकार समझकर प्रदान करती है।
श्री पाठक यहां पर 'उगता भारत' परिवार की ओर से आयोजित एक विशेष कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने 'उगता भारत परिवार' की ओर से जारी 2018 के कैंलेंडर का भी इस अवसर पर विमोचन किया और पत्र के मुख्य संपादक श्री राकेश कुमार आर्य द्वारा लिखित पुस्तक 'गांधी और सावरकर' का भी विमोचन किया।


श्री पाठक ने कहा कि हमें इस समय अपने देश के महान क्रांतिकारियों के सपनों का भारत बनाने के लिए कृतसंकल्प प्रदेश की योगी सरकार और केन्द्र की मोदी सरकार के हाथ मजबूत करने चाहिए।

इस अवसर पर 'उगता भारत' के चेयरमैन श्री देवेन्द्रसिंह आर्य ने कहा कि 'उगता भारत' समाचार पत्र देश की संस्कृति व सांस्कृतिक विरासत को उकेरकर देश में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की अलख जगाने वाला समाचार पत्र है। जिससे कि भारत को विश्वगुरू के पद पर पुन: सुशोभित किया जा सके। श्री आर्य ने विधिमंत्री श्री ब्रजेश पाठक का ध्यान आकृष्ट करते हुए कहा कि वर्तमान में यूपी रिवेन्यू कोड के अंतर्गत कई खामियां रह गयीं हैं। जिनसे अधिवक्ताओं और वादकारियों का अहित हो रहा है, यदि सरकार इस ओर ध्यान दे तो हम सभी मिलकर एक बेहतर समाधान दे सकते हैं।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे 'उगता भारत प्रकाशन विभाग' के राष्ट्रीय संरक्षक पंडित बाबा नंदकिशोर मिश्र ने कहा कि इस समय सावरकरवादी सोच के माध्यम से देश की राजनीति को सर्वातोन्मुखी उन्नति और समृद्घि के प्रति संकल्पित करने की आवश्यकता है।
श्री मिश्र ने कहा कि हमारे समाचार पत्र में इतिहास पर विशेष अनुसंधानात्मक कार्य किया जा रहा है, जो कि अत्यंत प्रशंसनीय कार्य है।
पत्र के प्रधान संपादक श्री राकेश कुमार आर्य ने कहा कि 'उगता भारत' समाचार पत्र का मकर संक्रांति के पावन पर्व के अवसर पर लांच किया जाना पर्व की ऐतिहासिकता और वैज्ञानिकता को नमन करता है। श्री आर्य ने कहा कि वर्तमान में देश की सारी व्यवस्था ही शीर्षासन कर चुकी है, जिसे सही स्थिति, सही स्वरूप और सही दिशा देने के लिए युवाओं और लेखनी के धनी विद्वानों को आगे आना ही चाहिए।
कार्यक्रम में पत्र के वरिष्ठ सहसंपादक श्रीनिवास आर्य सहसंपादक राकेश आर्य (बागपत), उपसंपादक रामकुमार वर्मा, धर्माचार्य प्रमुख राजकिशोर शास्त्री, कार्यालय प्रबंधक बिरेन्द्र द्विवेदी, 'उगता भारत प्रकाशन' के राष्ट्रीय अध्यक्ष आई.डी. यादव, जनरल मैनेजर एलएस तिवारी, अमित शुक्ला, प्रबंध संपादक आर.एच. देव और धर्माचार्य/सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के संचालक रविन्द्र आर्य ने भी अपने विचार व्यक्त किये। सहसंपादक श्री राकेश आर्य (बागपत), ने वेदमंत्रोच्चारण के माध्यम से कार्यक्रम का शुभारंभ कराया और वैदिक प्रार्थना के साथ लोगों को उसके महत्व भी बताए। श्री आर्य ने ही कार्यक्रम का समापन वेदमंत्रोच्चारण करते हुए शांतिपाठ एवं 'सर्वे भवन्तु सुखिन:' का गान करते हुए कराया। जबकि पत्र के जनरल मैनेजर श्री एल.एस. तिवारी ने पत्र की विशेषताओं पर प्रकश डालते हुए इसकी वर्तमान संदर्भों में उपयोगिता पर अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम का सफल संचालन पत्र के उत्तर प्रदेश ब्यूरो श्री ब्रजेश कुमार तिवारी ने व 'उगता भारत प्रकाशन' विभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री आई.डी. यादव द्वारा किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पंडित बाबा नंदकिशोर मिश्र द्वारा की गयी।


इस अवसर पर वरिष्ठ समाजसेविका श्रीमति कृति सिंह पत्र परिशशिकांत वार की सदस्या आरती तिवारी, वरिष्ठ अधिवक्ता शिशिर चतुर्वेदी एवं महादेव सिंह, विनय तिवारी, श्रीमती रीता राय जैसे हिंदूवादी चिंतक भी उपस्थित रहे।
कार्यक्रम में फिल्म डायरेक्टर श्री शशिकांत ने अपनी विशेष कलात्मक वक्तव्य शैली से सभी को प्रभावित किया। इसी प्रकार भोजपुरी गायक श्री संतोष यादव ने भी अपनी विशेष कार्यशैली से सभी का मन मोह लिया। इस अवसर पर 'उगता भारत प्रबुद्घ मंच' के काठमाण्डू प्रभारी श्री चंद्रदेव पांडे भी उपस्थित रहे।