पहलवान साक्षी मलिक ने भारत की झोली में पहला पदक दिला रचा इतिहास

  • 2016-08-18 02:30:00.0
  • आशीष विकल

पहलवान साक्षी मलिक ने भारत की झोली में पहला पदक दिला रचा इतिहास

अब तक भारत को पदक का इंतज़ार था जो भारत की झोली में पहलवान साक्षी मलिक ने महिला फ्रीस्टाइल के 58 किलोग्राम वर्ग में भारत को कांस्य पदक दिला दिया है। उन्होंने कांस्य पदक के लिए हुए मुकाबले में किर्गिस्तान की ताइनिवेकोवा आइसिलु को 8-5 से हराया।

पहले राउंड में विरोधी पहलवान साक्षी पर भारी पड़ी और वो 0-5 से पिछड़ गई। लेकिन दूसरे राउंड में साक्षी ने शानदार वापसी करते हुए किर्गिस पहलवान को चारों खाने चित कर दिया। निर्णायक स्कोर टेइक्निकल प्वॉइंट्स 8-5 और क्लास प्वॉइंट्स 3-1 रहा।

इसी तरह से योगेश्वर दत्त ने लंदन ओलंपिक में भारत को ब्रॉन्ज मेडल दिलाया था।

इससे पहले भारत की पदक उम्मीद साक्षी मलिक (58 किग्रा) और विनेश फोगाट (48 किग्रा) रियो क्वार्टर फाइनल में हार गईं। साक्षी को 58 किग्रा वर्ग के क्वार्टर फाइनल में रूस की वैलिरिया कोब्लोवा झोलोबोवा ने 9-2 के बड़े अंतर से पराजित किया जबकि विनेश को चोटिल होने के कारण 48 किग्रा वर्ग में चीन की यानन सुन के खिलाफ अपना क्वार्टर फाइनल मुकाबला छोड़ देना पड़ा। विनेश को स्ट्रेचर पर बाहर ले जाया गया।

साक्षी ने क्वालिफिकेशन में स्वीडन की जोहाना मैट्सन को 5-4 से पराजित कर एलिमिनेशन राउंड में स्थान बनाया और एलिमिनेशन राउंड में मोल्दोवा की मारियाना चेरदिवारा को हराकर क्वार्टरफाइनल में स्थान बनाया जहां उनकी चुनौती टूट गई। क्वार्टर फाइनल में रूसी पहलवान साक्षी पर भारी पड़ीं और 9-2 से मुकाबला जीतकर सेमीफाइनल में जगह बना ली।
23 वर्षीय साक्षी और मारियाना के बीच एलिमिनेशन राउंड का मुकाबला 5-5 से बराबरी पर छूटा लेकिन बड़े अंक हासिल करने के आधार पर साक्षी को विजेता घोषित किया गया। साक्षी पहले राउंड में 0-3 से पिछड़ गई थीं लेकिन दूसरे राउंड में उन्हें विपक्षी पहलवान को चेतावनी के बाद एक अंक मिल गया।

साक्षी ने इसके बाद धोबी पट लगाते हुए मारियाना के पैरों को पकड़ते हुए उन्हें उठाकर पटक दिया। साक्षी को इससे चार अंक हासिल हुए और उन्होंने 5-3 की बढ़त बना ली। मारियाना ने आखिरी मिनट में दो अंक लेकर स्कोर 5-5 से बराबर किया लेकिन टाई स्कोर की सूरत में साक्षी को उन बड़े अंकों के आधार पर विजेता घोषित किया गया। साक्षी अपने इस प्रदर्शन को रूस की वैलिरिया के खिलाफ बरकरार नहीं रख पाईं।

आशीष विकल ( 17 )

उगता भारत Contributors help bring you the latest news around you.